बेचारा स्वीस बैंक का कोड दिल में रखे था !

क्या गजब ढाते हो यारो, भ्रष्टाचार का खुल्लम-खुल्ला मौक़ा देते हो
और जब कर देते हैं हम भ्रष्टाचार, फिर चिल्ल-पौं पर उतर आते हो !
…………..
हमारा खजाना है, लूट रहे हैं, देश के खजांची जो हैं
तुम्हारा क्या लूट लिया, जो ख़ामो-खां चिल्ला रहे हो !
…………..
लो भाई ये भी खूब रही, पहले नेता बना दिया
एक-दो घोटाले क्या हुए, अब लुटेरा कह रहे हो !
…………..
कल एक नेता हार्ट अटैक में चल बसा
बेचारा स्वीस बैंक का कोड दिल में रखे था !
…………..
चुनाव जिताकर भेज दिया, दिल्ली हमको
अब हमारे लौटने की, क्यों राह तकते हो !

Advertisements
This entry was posted in कविता. Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s