क्या फर्क पड़ता है !

भईय्या आपने बैंक लूट लिया
एफ.आई.आर.हो जायेगी
छोड़ ना जाने दे, सब अपने हैं
क्या फर्क पड़ता है !

भईय्या चौक पे मर्डर कर दिया
पुलिस पकड़ कर ले जायेगी
छोड़ ना जाने दे, सब अपने हैं
क्या फर्क पड़ता है !

भईय्या आपने इज्जत लूट ली
चलो यहाँ से भाग चलते हैं
छोड़ ना जाने दे, सब अपने हैं
क्या फर्क पड़ता है !

भईय्या नेताजी को टपका दिया
चलो अब तो भाग चलते हैं
छोड़ ना जाने दे, सब अपने हैं
क्या फर्क पड़ता है !

भईय्या कप्तान को चांटा जड़ दिया
अब तो खैर नहीं, चलो निकल लें
छोड़ ना जाने दे, सब अपने हैं
क्या फर्क पड़ता है !

भईय्या कभी तो कुछ फर्क
नहीं, कभी नहीं, और न पडेगा
क्यों, कैसे भईय्या
लोकतंत्र है सरकार हमारी है !

Advertisements
This entry was posted in कविता. Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s