हार – जीत

हर पल, पाने की चाह
कुछ पल के लिये अच्छी है
समर्पण की भावना
सदा के लिये अच्छी है

जरा सोचो
हमने क्या खोया – क्या पाया
और जरा सोचो
तुमने क्या पाया – क्या खोया

जिंदगी की राहों में
जीत कर भी हारते हैं कभी
कभी हार कर भी जीत जाते हैं

भावना हार-जीत की नहीं
समर्पण की देखो
जीतने वाले को
और हारने वाले को देखो
खुशी को देखो
और अंदर छिपी मायूसी को देखो

फ़िर जरा सोचो
कौन जीता – कौन हारा
कौन हारा – कौन जीता

मत हो उदास जीत कर भी तू
संतोष कर देख कर मुझको
हारा नही हूं, हारा नही हूं ।

Advertisements
This entry was posted in कविता. Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s