छोटी सी ज्वाला

एक समय था जल रही थी
ऊंच-नीच की ‘छोटी सी ज्वाला’
कुछ लोगों ने आकर उस पर
जात-पात का तेल छिडक डाला

भभक-भभक कर भभक उठी
वह ‘छोटी सी ज्वाला’
फ़िर क्या था कुछ लोगों ने
उसको अपना हथियार बना डाला

न हो पाई मंद-मंद
वह ‘छोटी सी ज्वाला’
अब गांव-गांव, शहर-शहर
हर दिल – हर आंगन में
दहक रही है ‘छोटी सी ज्वाला’ ।

Advertisements
This entry was posted in कविता. Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s